चुनाव में भाजपा ने माफिया का खात्मा मुख्य मुद्दा रखा

ब्यूरो रिपोर्ट, प्रयागराज।

प्रयागराज। यूपी में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव में भाजपा ने माफिया का खात्मा मुख्य मुद्दा रखा। पूरा चुनाव विकास, कानून व्यवस्था और माफिया की अवैध संपत्ति पर बुलडोजर चलाने पर केंद्रित रहा। विपक्ष ने भी इसे लेकर अपने तरीके से हमला बोला। इसका नतीजा रहा कि इलाहाबाद पश्चिम विधानसभा सीट पर सिद्धार्थनाथ सिंह दोबारा जीतने में सफल रहे।
पूजा पाल और विजमा यादव, दोनों सपा विधायक, इन चर्चित महिलाओं की दुखद है राजनीति में आने की दास्तां
अतीक के परिवार ने इस चुनाव में खुद को अलग रखा
यह सीट माफिया अतीक अहमद के प्रभाव की मानी जाती है लेकिन इस चुनाव में बुलडोजर माफिया की राजनीति पर भी चल गया। अतीक के परिवार ने इस चुनाव में पूरी तरह खुद को अलग रखा। माना जा रहा है कि जो भय कभी यहां माफिया का होता था वह अब समाप्त हो चुका है।
पिछले पांच साल में कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह लगातार इलाहाबाद पश्चिम विधानसभा में सक्रिय रहे। अलग अलग गांवों में जाकर लोगों के साथ बैठक करने से लेकर उनकी समस्याओं को सुनने तक के सकारात्मक नतीजे आए। इसके अतिरिक्त क्षेत्र में बड़ी परियोजनाओं की भी आधारशिला रखी गई। तमाम स्वयं सहायता समूहों का गठन कर महिलाओं को रोजगार से जोड़ने का प्रयास भी रंग लाया। खास बात यह कि क्षेत्र में 60 हजार से अधिक मुस्लिम, 80 हजार दलित, 40 हजार पाल, इतने ही पटेल मतदाता हैं। इनका ध्रुवीकरण कराने में भी भाजपा सफल रही।

प्रायगराज बुलडोजर ने माफिया अतीक का राजनीतिक प्रभाव भी ढहाया, सिद्धार्थनाथ की जीत में यह बड़ा कारण
इलाहाबाद पश्चिमी सीट माफिया अतीक अहमद के प्रभाव की मानी जाती है लेकिन इस चुनाव में बुलडोजर माफिया की राजनीति पर भी चल गया। अतीक के परिवार ने इस चुनाव में पूरी तरह खुद को अलग रखा। कहा जा रहा है कि माफिया का भय अब नहीं
इस चुनाव में बुलडोजर माफिया अतीक की राजनीति पर भी चला और सिद्धार्थनाथ आसानी से जीते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *