वीआईपी पार्टी की आमद ने जनपद में उम्मीदों का कमल खिलने से रोक दिया

ब्यूरो रिपोर्ट, अम्बेडकरनगर।

आलापुर, अम्बेडकरनगर। – भारतीय जनता पार्टी के स्टार प्रचारकों के अनगिनत फेरों के बावजूद अम्बेडकर नगर जिले में उम्मीदों का कमल खिलने के बजाय और अधिक कुम्हला गया | टिकट वितरण में देरी अति पिछड़े मतों का बिखराव, भितरघात एवं वीआईपी पार्टी की आमद ने जनपद में उम्मीदों का कमल खिलने से रोक दिया | वर्ष 2017 के चुनाव में भाजपा द्वारा जीती गई आलापुर व टाण्डा सीट पर भी उसे हार का सामना करना पड़ा | अकबरपुर, कटेहरी, आलापुर और टाण्डा में जहां भाजपा दूसरे नम्बर पर आई वहीं जलालपुर में तीसरे नम्बर की पार्टी बनकर रह गई | भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करते हुए प्रचण्ड बहुमत की सरकार दोबारा बनाने की सफलता हासिल की है लेकिन अयोध्या से सटे अम्बेडकर नगर जिले से सभी सीटों पर उसका सफाया हो गया | तमाम कोशिशों के बावजूद पांच में से किसी भी सीट पर भाजपा या गठबंधन के प्रत्याशी को जीत नहीं मिल सकी | पार्टी प्रत्याशियों के पक्ष में माहौल बनाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर अनुप्रिया पटेल प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य डॉ० दिनेश शर्मा सांसद मनोज तिवारी निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ० संजय निषाद समेत कई अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों पूर्व केन्द्रीय मंत्रियों ने रैली व रोड शो भी किया था इसके बावजूद मतगणना के बाद जो परिणाम आये वह भाजपा के लिए काफी निराशाजनक रहे | भाजपा इस बार अम्बेडकर नगर जिले में बसपा के कमजोर होने का फायदा उठाकर ज्यादा सीटों पर कब्जा जमाने की तैयारी में थी इसके लिए एक-एक सीट पर कई स्तरों पर समीक्षा का दौर भी चला था लेकिन इनका कोई नतीजा नहीं निकला | सभी पांच सीटों पर भाजपा की उम्मीदों का कमल खिलने से पहले ही कुम्हला गया | भाजपा ने आलापुर की विधायक अनीता कमल का टिकट काटकर उनके ससुर त्रिवेणी राम को आलापुर एवं टाण्डा विधायक संजू देवी का टिकट काटकर पूर्व जिलाध्यक्ष कपिलदेव वर्मा को प्रत्याशी बनाया था लेकिन दोनों सिटिंग सीटें भी भाजपा के हाथ से निकल गईं | आलापुर में त्रिवेणी राम को 9083 मतों से मात खानी पड़ी तो टाण्डा में कपिलदेव वर्मा 32000 से अधिक मतों के अंतर से मात खा गए | कटेहरी में भाजपा ने निषाद पार्टी के साथ गठबंधन के तहत अपने नेता अवधेश द्विवेदी को निषाद पार्टी से उम्मीदवार बनवाया था | अवधेश द्विवेदी 7696 मतों से चुनाव हार गए | अकबरपुर में भाजपा प्रत्याशी पूर्व मंत्री धर्मराज निषाद 12336 मतों से पीछे राह गए | 2019 के उपचुनाव में सपा से विधायक चुने गए सुभाष रॉय ने इस बार भाजपा के टिकट पर जलालपुर से चुनाव लड़ा था लेकिन वे इस बार तीसरे स्थान पर रहे | टिकट वितरण में देरी एवं भितरघात तथा विभीषणों की गतिविधियों ने पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में माहौल ही नहीं बनने दिया इसके अलावा अति पिछड़ी जाति के मतदाताओं का बिखराव एवं कई सीटों पर अनुसूचित जाति के कुछ मतदाताओं का सपा की तरफ झुकाव एवं विकासशील इंसान पार्टी की आमद भी भाजपा की पराजय की बड़ी वजह बनी | आलापुर में तो विकासशील इंसान पार्टी की उम्मीदवार प्रेमलता को 6778 मत मिल गया जबकि त्रिवेणी राम की पराजय 9393 मतों से ही हुई है | इसके अलावा 1538 मतदाताओं ने नोटा का भी यहां प्रयोग किया है | विकासशील इंसान पार्टी की आमद के बावजूद संतकबीरनगर संसदीय क्षेत्र के भाजपा सांसद प्रवीण निषाद अपने संसदीय सीट अंतर्गत आने वाली आलापुर सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार में रुचि लेना तो दूर अपना दर्शन देना भी गंवारा नहीं समझे | कम से कम नाराज स्वजातीय मतदाताओं को समझा बुझाकर उन पर अपना असर डालते तो शायद स्थिति कम से कम आलापुर में तो इतनी निराशाजनक नहीं होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *