अपने बयान से फिर सुर्खियों में आए कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी मसूरी में चुनाव की तैयारियों में लगे प्रत्याशियों को बताया चोर डकैत

अपने बयान से फिर सुर्खियों में आए कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी
मसूरी में चुनाव की तैयारियों में लगे प्रत्याशियों को बताया चोर डकैत

मसूरी संवाददाता ।
मसूरी में आयोजित रक्षाबंधन समारोह में जहां सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती हुई दिखाई दी वहीं हजारों की संख्या में पहुंची महिलाओं व बच्चों पर इसका खतरा और अधिक मनंडराने लगा है जहां एक और भारतीय जनता पार्टी सोशल डिस्टेसिंग मास्क आदि को लेकर बड़े-बड़े दावे करती है वही मसूरी विधायक और कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी द्वारा आयोजित रक्षाबंधन कार्यक्रम में कहीं भी कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए नहीं देखा गया

कार्यकर्ताओं को देखकर कैबिनेट मंत्री और मसूरी विधायक गणेश जोशी इतने जोश में दिखे कि उन्होंने मसूरी में चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों को चोर डकैत की संज्ञा दे डाली मंच से भाषण देते हुए कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि मसूरी में बरसाती मेंढकों की तरह चुनाव प्रत्याशी आ रहे हैं इन चोर डकैतों को मसूरी विधानसभा में घुसने नहीं देना है

उनके इस बयान की सभी राजनीतिक दलों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने घोर निंदा की है और कहा है कि गणेश जोशी सत्ता के नशे में इतने चूर हो गए हैं कि उन्हें सभी प्रत्याशी चोर डकैत नजर आ रहे हैं
पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने इस पर चुटकी लेते हुए कहा कि सत्ता की बागडोर ऐसे लोगों के हाथों में आ गई है कि जिन्हें अपने प्रतिद्वंदी कीड़े मकोड़े नजर आते हैं उन्होंने कहा कि भाजपा के मंत्री बेलगाम हो चुके हैं और ऐसे बयान बाजी से लोकतंत्र को खतरा पैदा हो गया है उन्होंने कहा कि यह बहुत ही उन्होंने गणेश जी के बयान को शर्मनाक बताया
कांग्रेस प्रदेश महासचिव गोदावरी थापली ने कहा कि गणेश जोशी सत्ता के नशे में चूर हो चुके हैं और उन्हें इस प्रकार के बयान देने को लेकर साफ जाहिर होता है कि भारतीय जनता पार्टी किस प्रकार से लोकतंत्र की हत्या करना चाह रही है उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सभी को चुनाव लड़ने का अधिकार है और किसी को भी चोर डकैत कहने से पहले उन्हें खुद अपने गिरेबान में झांकना चाहिए उन्होंने कहा कि कि सरकार भाजपा कोरोना गाइड लाइन के पालन को लेकर कितनी संजीदा है यह इस कार्यक्रम मैं देखने को मिल रहा है कि किस प्रकार कोरोना गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाई जा रही है

वहीं समाजसेवी पंडित मनीष गोयल ने उनके इस बयान की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि गणेश जोशी शायद भूल चुके हैं कि किस प्रकार से उन्होंने एक बेजुबान जानवर की टांग तोड़ डाली थी जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी लेकिन वे अब सत्ता के नशे में इतने मदहोश हो चुके हैं कि उन्हें इस प्रकार के बयान देने से पहले जरा भी सोचने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी इससे किसी के आत्मसम्मान को ठेस पहुंच सकती है उन्होंने बताया कि 2022 के चुनाव में इसका जवाब दिया जाएगा

गूंज संस्था की अध्यक्ष डॉ सोनिया आनंद रावत ने कहा कि गणेश जोशी का बड़बोलापन उनके पतन का कारण बन जाएगा और जिस प्रकार से वो बयान दे रहे हैं उससे साफ लगता है कि भाजपा सरकार के मंत्री किस प्रकार से बेलगाम हो चुके हैं